Breaking News
मुख्यमंत्री धामी ने आगामी मानसून की तैयारियों की बैठक में अधिकारियों को दिये निर्देश
18 जून को वाराणसी में किसान सम्मेलन को संबोधित करेंगे प्रधानमंत्री मोदी
श्री महंत इन्दिरेश नेत्र बैंक बना उत्तराखण्ड का पहला ट्रेनिंग सेंटर
मोदी कैबिनेट 3.0 में सूचना-प्रसारण मंत्री बने अश्विनी वैष्णव ने संभाला पदभार
राज्यपाल ने ‘राजभवन मैत्री चैटबॉट’ का किया लोकार्पण
सीएम धामी ने नई दिल्ली में निर्माणाधीन ‘उत्तराखण्ड निवास’ का किया निरीक्षण
फूड सेफ्टी कनेक्ट एप पर करें मिलावटखोरी से जुड़ी शिकायत
विभिन्न पदों पर पुलिस भर्ती परीक्षा के फिजिकल टेस्ट की डेट आगे खिसकी
आईएमए से पासआउट होकर 355 युवा भारतीय सेना में बने अफसर

बड़कोट पहुंचे मुख्यमंत्री धामी, यमुनोत्री धाम की व्यवस्थाओं का लिया जायजा

चारधाम पैदल मार्गों पर श्रद्धालुओं को पेयजल एवं अन्य सुविधाएं पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हों – मुख्यमंत्री धामी 

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शुक्रवार को सचिवालय में चारधाम यात्रा व्यवस्थाओं की समीक्षा करते हुए चारधाम यात्रा से जुड़े जिलों के जिलाधिकारियों से विभिन्न व्यवस्थाओं का फीडबैक लिया। इसके बाद मुख्यमंत्री ग्राउंड जीरो से यमुनोत्री धाम की व्यवस्थाओं का जायजा लेने बड़कोट पहुंचे। चारधाम यात्रा में श्रद्धालुओं की सुविधा के दृष्टिगत और यात्रा को सुगम बनाने के लिए मुख्यमंत्री स्वयं मोर्चा संभाले हुए हैं। मुख्यमंत्री ने चारधाम यात्रा से जुड़े सभी विभागों के सचिवों को निर्देश दिए हैं कि वे लगातार चारधाम यात्रा मार्गों पर अपने विभागों से संबंधित सभी व्यवस्थाओं को देंखें और विभागों के उच्चाधिकारियों को भी मौके पर भेजें।

उन्होंने कहा कि यात्रा व्यवस्थाओं में सभी अधिकारी चारधाम यात्रा से जुड़े जनपदों के जिलाधिकारी और एसपी का पूरा सहयोग करें। यात्रा व्यवस्थाओं में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। यात्रियों को जिन स्थानों पर ठहराने की व्यवस्थाएं की गई है, उन स्थानों पर सभी मूलभूत सुविधाएं पेयजल, विद्युत, शौचालय, खानपान और बच्चों के लिए दूध और अन्य आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराने के सीएम निर्देश दिए। कहा कि चारधाम पैदल मार्गों पर श्रद्धालुओं को पेयजल एवं अन्य सुविधाएं पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हों। चारधाम यात्रा के दौरान भीड़ प्रबंधन और श्रद्धालुओं की सुविधा के दृष्टिगत आवश्कतानुसार वैकल्पिक मार्गों की व्यवस्था की जाए और श्रद्धालुओं को इन मार्गों के बारे में जानकारी भी दी जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top