Friday, August 12, 2022
Home मनोरंजन सोनाक्षी सिन्हा ने किसानों के समर्थन में सुनाई कविता, कहा- ये हमें...

सोनाक्षी सिन्हा ने किसानों के समर्थन में सुनाई कविता, कहा- ये हमें खिलाने वाले हाथों के प्रति सम्मान

केंद्र द्वारा पारित तीन कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों के समर्थन में अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा ने एक कविता सुनाई और कहा यह हमें खिलाने वाले हाथों के प्रति सम्मान है।

केंद्र द्वारा पारित तीन कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों के समर्थन में अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा ने एक कविता सुनाई और कहा यह हमें खिलाने वाले हाथों के प्रति सम्मान है। पिछले हफ्ते पहली बार किसानों के साथ एकजुटता जाहिर करते हुए अभिनेत्री ने बुधवार शाम को इंस्टाग्राम पर एक वीडियो साझा कर विरोध कर रहे किसानों के बारे में अपने विचार साझा किए।

एक मिनट 19 सेकंड लंबी क्लिप में उन संकटग्रस्त किसानों के वीडियो को शामिल किया गया है, जो केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की विभिन्न सीमाओं पर नवंबर से ही विरोध करने के लिए इकट्ठे हुए हैं। सोनाक्षी सिन्हा के मुताबिक हिंदी कविता वरद भटनागर ने लिखी थी और इस वीडियो को गुरसंजम सिंह पुरी ने शूट और संकल्पना दी थी।

उन्होंने पोस्ट करते हुए लिखा,‘‘नजर मिलाके, खुद से पूछो: क्यों? वरद भटनागर की लिखी हुई यह कविता उन अन्नदाताओं के प्रति सम्मान है जो हमें खिलाते हैं। इसे शूट और इसकी संकल्पना गुरसंजम पूरी ने की है और इसका पाठन मैं कर रही हूं।”

उन्होंने आगे सवाल किया कि विरोध करने के लिए सड़कों पर बाहर निकलने वाले बुजुर्गों और बच्चों को दंगाइयों के रूप में क्यों प्रस्तुत किया जा रहा है।

बता दें, केंद्र के तीन नये कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली की सीमाओं पर दो महीने से अधिक समय से किसान प्रदर्शन कर रहे हैं। वहीं इस मामले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को कहा था कि संसद और सरकार किसानों का बहुत सम्मान करती हैं और तीनों कृषि कानून किसी के लिये ‘‘बाध्यकारी नहीं हैं बल्कि वैकल्पिक’’ हैं, ऐसे में विरोध का कोई कारण नहीं है।

वहीं इस आंदोलन के मुख्य नेतृत्वकर्ता भारतीय किसान यूनियन के राकेश टिकैत ने कहा कि MSP से कम पर खरीद नहीं होगी। राकेश टिकैत ने गुरुवार को कहा कि ‘हमारी आगे की रणनीति होगी कि अनाज को कम कीमत पर नहीं बिकने देंगे। जो MSP है उस से कम पर खरीद नहीं होगी। किसान मोर्चें ने तय कर लिया है कि व्यापारी भूख पे कीमतें तय नहीं करेगा। आम जनता की अनाज और रोटी तिजोरी में बंद नहीं होगी।’

Source Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

नवीनतम