Tuesday, September 27, 2022
Home मध्यप्रदेश मध्य प्रदेश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान : संक्रमण जहाँ है, वहीं...

मध्य प्रदेश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान : संक्रमण जहाँ है, वहीं उसे रोकना होगा

मध्य प्रदेश ,भोपाल :

घर-घर सर्वे कर मेडिकल किट दें
होम आइसोलेशन व कोविड केअर सेंटर्स की अच्छी व्यवस्था हो
मुख्यमंत्री चौहान ने कोरोना नियंत्रण कोर ग्रुप की बैठक ली

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना की चेन ब्रेक करने का एक मात्र तरीका यही है कि जहाँ संक्रमण है उसे वहीं रोकना होगा। गाँव-गाँव, मोहल्ले-मोहल्ले, गली-गली में जहाँ भी संक्रमण हो माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनायें तथा कोरोना को वहीं रोक दें। साथ ही ऐसे क्षेत्र जहाँ कोरोना संक्रमण नहीं है, वहाँ बाहर से आने-जाने वालों पर सख्ती की जाए, जिससे वहाँ संक्रमण प्रवेश न कर पाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सभी के प्रयासों से ‘मेरा गाँव-कोरोना मुक्त गाँव’, ‘मेरा मोहल्ला-कोरोना मुक्त मोहल्ला’ और ‘मेरा शहर-कोरोना मुक्त शहर’ बनायें।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि घर-घर सर्वे कर सर्दी, जुकाम, बुखार के मरीजों की पहचान की जाए और उन्हें मेडिकल किट देकर इलाज शुरू कराया जाए। प्रारंभ से ही दवाई दिए जाने से मरीज जल्दी स्वस्थ हो जाएंगे। इसके लिए गाँव और शहरों में अभियान चलाया जाए। शहरों में कोरोना सहायता केंद्र बनाये जायें, जहाँ से आसानी से मेडिकल किट उपलब्ध हो सके।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों को मेडिकल किट एवं मार्गदर्शिका प्रदाय की जाए तथा इलाज के संबंध में प्रतिदिन डॉक्टर उनसे बात कर सलाह दें। जिन मरीजों के घर में जगह कम है उन्हें कोविड केयर सेंटर्स में रखा जाए। कोविड केयर सेंटर्स में इलाज के साथ ही भोजन आदि की भी अच्छी व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। होम आइसोलेशन व्यवस्था को परफेक्ट बनाया जाए।

मुख्यमंत्री श्री चौहान आज निवास से कोरोना नियंत्रण कोर ग्रुप की बैठक ले रहे थे। बैठक में सभी संबंधित मंत्री तथा अधिकारी उपस्थित थे।

हाई पॉजिटिविटी वाले जिलों पर विशेष ध्यान दें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि प्रदेश के हाई पॉजिटिविटी वाले जिलों पर विशेष ध्यान दिया जाए। प्रदेश के 15 जिलों में 25% से अधिक 7 दिन की औसत पॉजिटिविटी रेट है। टीकमगढ़ की 47%, शिवपुरी की 39%, दतिया की 34%, अनूपपुर की 32%, सिंगरौली की 31%, नरसिंहपुर की 31%, सीधी की 31%, कटनी की 30% ग्वालियर की 29%, निवाड़ी की 27%, सीहोर की 27%, भोपाल की 27%, डिंडोरी की 27%, बैतूल की 26% तथा मुरैना की 26% पॉजिटिविटी रेट है।

होम आइसोलेशन व्यवस्था को पर्फेक्ट बनायें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि होम आइसोलेशन व्यवस्था को परफेक्ट बनायें, जिससे मरीज घर पर ही स्वस्थ हो जायें और उन्हें अस्पताल जाने की आवश्यकता ही न पड़े। प्रदेश में वर्तमान में 64 हजार 218 मरीज होम आइसोलेशन में हैं, इनमें से 13 हजार 596 ग्रामीण क्षेत्र में तथा 50 हजार 622 नगरी क्षेत्र में हैं।

87 हजार 179 सक्रिय मरीज

प्रदेश में नए प्रकरणों की तुलना में अधिक मरीज स्वस्थ होकर घर जा रहे हैं। इससे प्रदेश में कोरोना के सक्रिय मरीजों की संख्या में निरंतर कमी आ रही है। पिछले 24 घंटे में प्रदेश में 12 हजार 652 नए मरीज आए, वहीं 13 हजार 890 मरीज स्वस्थ हुए। प्रदेश में कोरोना के सक्रिय मरीजों की संख्या 87 हजार 179 हो गई है। प्रदेश की रिकवरी रेट 84.2% तथा मृत्यु दर 1% है। संक्रमण की दृष्टि से प्रदेश देश में 14वें स्थान पर है।

18 जिलों में 200 से अधिक नए प्रकरण

जिलेवार समीक्षा में पाया गया कि प्रदेश के 18 जिलों में 200 से अधिक कोरोना के नए प्रकरण आए हैं। इंदौर में 1821, भोपाल में 1678, ग्वालियर में 1072, जबलपुर में 731 रीवा में 346, बैतूल में 328, रतलाम में 325, शिवपुरी में 276, दमोह में 268, उज्जैन में 262, सतना में 257, पन्ना में 249, धार में 233, सागर में 222, सिंगरौली में 216 अनूपपुर में 212, सीहोर में 212 तथा विदिशा में 209 नए प्रकरण आए हैं।

बुरहानपुर की पॉजिटिविटी रेट सबसे कम

कोरोना संक्रमण के मामले में बुरहानपुर जिले की साप्ताहिक औसत पॉजिटिविटी रेट सबसे कम 3% है। वहीं छिंदवाड़ा की 5%, खंडवा की 6%, भिंड की 10% तथा अशोकनगर की 11% पॉजिटिविटी रेट है।

कोविड केयर सेंटर्स में 1267 ऑक्सीजन बेड्स

प्रदेश में संचालित हो रहे कोविड केयर सेंटर्स में से 80 में ऑक्सीजन की व्यवस्था है। इन सेंटर्स में 14 हजार 362 आइसोलेशन बेड्स तथा 1267 ऑक्सीजन बेड्स उपलब्ध हैं। कोविड केयर सेंटर्स में मरीजों के इलाज के साथ ही उनके भोजन आदि की अच्छी व्यवस्था की गई है।

ऑक्सीजन की निरंतर एवं पर्याप्त आपूर्ति

प्रदेश को भारत सरकार की ओर से 589 मीट्रिक टन ऑक्सीजन का कोटा प्राप्त है, जिसके विरुद्ध गत दिवस 456 एमटी, आज 474 एमटी ऑक्सीजन आई तथा 3 मई को 543 एमटी ऑक्सीजन आने की संभावना है। ऑक्सीजन की 1 मई को 548 एमटी तथा 2 मई को 566 एमटी आपूर्ति की गई। प्रदेश में 7 नए ऑक्सीजन प्लांट ने कार्य करना प्रारंभ कर दिया। मई के अंत तक अधिकांश नए ऑक्सीजन प्लांट पूरे हो जाएंगे। भारत सरकार से 11 और ऑक्सीजन प्लांट की स्वीकृति प्राप्त हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

नवीनतम

9

8

7

6

5

4

3

2

1

प्रधानमंत्री आवास योजना में तकनीकी कारणों से कोई गरीब वंचित न रहे – मुख्यमंत्री चौहान

 मध्य-प्रदेश  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि हम बेहतर कार्य करते हुए प्रदेश को विकास के पथ पर अग्रसर करें और प्रदेशवासियों को...