Breaking News
अब विकास प्राधिकरण क्षेत्रांतर्गत किसी भी प्रकार के विकास के लिए मानचित्र स्वीकृत कराना होगा अनिवार्य
अग्निवीर योजना सक्षम सैनिक, सशक्त सेना की दिशा में क्रांतिकारी कदम – जोशी
एससी एसटी (अत्याचार निवारण) अधिनियम के तहत लंबित मामलों के निस्तारण पर जोर
जब मुंबई में बदरीनाथ मंदिर बना था, तब क्यों चुप थे कांग्रेसी
प्रभारी रावल पद पर विराजमान हेतु श्री बदरीनाथ धाम में धार्मिक अनुष्ठान हुए शुरू
श्री बदरीनाथ धाम में नायब रावल अमरनाथ नंबूदरी संभालेंगे पूजा- पाठ का जिम्मा
हरेला पर्व पर दून जिले में रोपे जाएंगे 10 लाख से अधिक पौधे
रूसी सेना में भर्ती हुए भारतीयों की होगी वतन वापसी, पीएम मोदी ने पुतिन के सामने उठाया मुद्दा
मानसिक रोगग्रस्त बच्चों और किशोरों का होगा सर्वे

रूरल जीनियस को ढूँढना और पारम्परिक ज्ञान को बढ़ावा देना हमारी जिम्मेदारी -राज्यपाल

यूकॉस्ट में राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर आयोजित नवाचार महोत्सव सम्पन्न

साइंस मार्च (विज्ञान जुलूस ) का आयोजन

देहरादून। उत्तराखंड राज्य विज्ञान और प्रोद्योगिकी परिषद् , यूकॉस्ट में राष्ट्रीय विज्ञान दिवस और नवाचार महोत्सव का बुधवार को समापन हुआ। इस अवसर पर उत्तराखंड राज्य विज्ञान और प्रौद्योगिकी कांग्रेस के चयनित शोधार्थियों और युवा वैज्ञानिको को भी सम्मानित किया गया। समारोह के मुख्य अतिथि राज्यपाल, लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत ) गुरमीत सिंह रहे। उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर ओम प्रकाश सिंह, यूकॉस्ट के महानिदेशक प्रोफेसर दुर्गेश पंत , जी एस रौतेला, सलाहकार साइंस सिटी, डा डीपी उनियाल , संयुक्त निदेशक , यूकॉस्ट ने विद्यार्थियों को सम्बोधित किया और उन्हें विज्ञान आधारित सामाजिक और आर्थिक विकास के बारे में जानकारी दी। राज्यपाल ने कहा कि भविष्य की उन्नति का मार्ग विज्ञान और प्रौद्योगिकी की सहायता से ही निकलेगा। उन्होंने कहा कि रूरल जीनियस को ढूँढना और पारम्परिक ज्ञान को बढ़ावा देना हमारी जिम्मेदारी है।

उन्होंने सभी चयनित विद्यार्थियों को शुभकामनाएं प्रेषित की। इस अवसर पर विज्ञान सम्बंधित मुद्दों की जागरूकता हेतु आंचलिक विज्ञान केंद्र के नितिन कपिल और पंकज थपलियाल आदि के मार्गदर्शन में सुद्धोवाला चौक से आंचलिक विज्ञान केंद्र , झाजरा तक आर्केडिया स्कूल, हिल ग्रूव स्कूल , प्राथमिक विद्यालय, सुद्धोवाला, प्राथमिक विद्यालय झाजरा, केंद्रीय विद्यालय, आई एम् ए, और संस्कृति स्कूल झाजरा के 250 से अधिक बच्चों और शिक्षकों के द्वारा विज्ञान जागरूकता और समसामयिक मुद्दों के प्रति जागरूकता हेतु एक साइंस मार्च (विज्ञान जुलूस ) का भी आयोजन किया गया।

इस अवसर पर विज्ञान के क्षेत्र में विशिष्ट कार्य हेतु डॉ बहादुर सिंह बिष्ट, डॉ. हर्षवंती बिष्ट, डॉ. कमल के. पांडे, डॉ. के.डी. पुरोहित, श्रीमती प्रेमलता बौराई और राजेंदर सिंह नेगी को विज्ञान पुरोधा सम्मान से सम्मानित किया गया। तीन दिवसीय नवाचार महोत्सव के विजेताओं को भी इस अवसर पर सम्मानित किया गया। नवाचार प्रदर्शनी में प्रथम स्थान डॉ. ब्रिजेश प्रसाद, ग्राफिक एरा यूनिवर्सिटी, देहरादून को और द्वितीय स्थान देवेन्द्र सिंह, उत्तरांचल विश्वविद्यालय, देहरादून को मिला। प्रॉब्लम सॉल्विंग कांटेस्ट में प्रथम स्थान पीयूष चौहान, टीएचडीसी, आईएचईटी, नई टिहरी को मिला। प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता में एच आई टी , देहरादून से चर्चित भल्ला , सौविक मंडल और पार्थ माली तथा ग्राफ़िक एरा हिल यूनिवर्सिटी से रोहित बागरी , अतुल आनंद और हर्षिता चौहान को प्रथम स्थान मिला। इनोवेटिव आइडिया पोस्टर में सुकल्प डबराल और टीम , दून यूनिवर्सिटी को प्रथम स्थान , अनन्या त्यागी, हरिद्वार को दूसरा स्थान और रेयांश जोशी , विवेकानंद स्कूल को तृतीय स्थान मिला। विजय मेहरा को उनके नवाचार आधारित कार्यों के लिए राज्यपाल महोदय द्वारा सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर 18वीं उत्तराखंड राज्य विज्ञान और प्रौद्योगिकी कांग्रेस 2024 के समापन समारोह में विभिन्न विषयों में उत्कृष्ट उपलब्धियों को सम्मानित किया गया। कृषि विज्ञान- प्रथम सुश्री रूपम कुँवर, द्वितीय सुश्री आकांक्षा रुहेला (मौखिक), प्रथम सुश्री कृष्णा (पोस्टर), जैव प्रौद्योगिकी, जैव रसायन और सूक्ष्म जीव विज्ञान – प्रथम सुश्री योगिता बिष्ट (मौखिक), प्रथम सैफ अली, द्वितीय विभाष ध्यानी (पोस्टर), वनस्पति विज्ञान , पर्यावरण विज्ञान एवं वानिकी प्रथम सुश्री श्वेता रावत , (मौखिक), प्रथम सुश्री रीतिका बिंजोला (पोस्टर), रसायन विज्ञान- प्रथम सुश्री समीक्षा बिष्ट (मौखिक), प्रथम सुश्री कविता मिश्रा, द्वितीय अंकित पांडे (पोस्टर), भूविज्ञान, भू-आकृति विज्ञान, भूभौतिकी, हिमनद विज्ञान और भूगोल सहित पृथ्वी विज्ञान- प्रथम सुश्री पूजा द्वितीय सुश्री सीता बोरा (मौखिक), प्रथम सुश्री पूजा चंद (पोस्टर), इंजीनियरिंग विज्ञान, सामग्री विज्ञान और नैनो प्रौद्योगिकी- प्रथम सुश्री दीक्षा भट्ट, द्वितीय डाकुरी रमाकांत (मौखिक), प्रथम रोहित कुमार, द्वितीय सुश्री श्रीजया शिवदास (पोस्टर), गृह विज्ञान, स्वास्थ्य एवं पोषण- प्रथम सुश्री अंजलि दनाई, द्वितीय सुश्री निधि (मौखिक), प्रथम सुश्री चारू बिष्ट, द्वितीय सुश्री प्रेमलता (पोस्टर), गणित, सांख्यिकी एवं कम्प्यूटर विज्ञान- प्रथम सुश्री दीक्षा दुम्का, द्वितीय अनुराग भट्ट (मौखिक), प्रथम सुश्री अवंतिका गौड़, द्वितीय सुश्री राधा (पोस्टर), चिकित्सा विज्ञान और फार्मास्युटिकल विज्ञान- प्रथम सुश्री एस्थर लालरिंग्ज़ो, द्वितीय सुश्री सिखा मोरंग (मौखिक), प्रथम सुश्री रियाक्षी नेगी, भौतिकी- प्रथम प्रमेश टम्टा, ग्रामीण विज्ञान, प्रौद्योगिकी और सोसायटी- प्रथम सुश्री शेफाली त्रिपाठी, द्वितीय सुश्री सुगंधा (मौखिक), प्रथम अंकित सती, द्वितीय बिपिन सती (पोस्टर), प्राणीशास्त्र, पशु विज्ञान एवं पशुपालन- प्रथम सुश्री शोभा उप्रेती, द्वितीय सुश्री रंजना गोस्वामी, द्वितीय सुश्री संगीता रावत ( पोस्टर), वैदिक, स्वदेशी और पारंपरिक ज्ञान प्रणाली – द्वितीय  अभिषेक जमलोकी, प्रथम (पोस्टर) सचिन कुमार,इन्नोवेटर ऑफ़ थे ईयर – हेमन्त कुमार शर्मा, जी.बी. पंत कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, पंतनगर उत्तराखंड को मिला। कार्यक्रम में विभिन्न शिक्षण संस्थाओं के 400 से अधिक विद्यार्थियों ने प्रतिभाग किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top