Saturday, February 4, 2023
Home दिल्ली Delhi High Court का अहम फैसला, रोजाना झगड़ने वाली बहू के खिलाफ...

Delhi High Court का अहम फैसला, रोजाना झगड़ने वाली बहू के खिलाफ सास-ससुर उठा सकते हैं ये कदम

“.. दिल्ली हाई कोर्ट ने अपने एक फैसले में कहा है कि बुजुर्ग माता-पिता बेटे-बहू की झिकझिक झेलने को मजबूर नहीं हैं. यदि बहू झगड़ालू प्रवृत्ति नहीं छोड़ती तो सास-ससुर शांति के लिए उसे घर से निकाल सकते हैं.. “

: नई दिल्ली : 

झगड़े हर घर में होते हैं, लेकिन कहीं-कहीं बात इतनी बढ़ जाती है कि घर के बाकी सदस्यों का जीना मुश्किल हो जाता है. Delhi High Court ने इस संबंध में एक महत्वपूर्ण फैसला सुनाया है. कोर्ट ने कहा है कि झगड़ालू प्रवृत्ति की बहू को संयुक्त घर में रहने का कोई अधिकार नहीं है और संपत्ति के मालिक उसे घर से बेदखल कर सकते हैं. उच्च न्यायालय ने कहा कि बुजुर्ग मां-बाप को शांतिपूर्ण जिंदगी जीने का अधिकार है. यदि बहू रोजाना चिक-चिक की आदत छोड़ने को तैयार नहीं है, तो उसे घर से निकाला जा सकता है.

निचली अदालत के फैसले को दी थी चुनौती

दिल्ली हाई कोर्ट ने साफ कहा है कि घरेलू हिंसा अधिनियम के तहत किसी बहू को संयुक्त घर में रहने का अधिकार नहीं है और उसे ससुराल के बुजुर्ग लोगों की ओर से बेदखल किया जा सकता है, क्योंकि वो शांतिपूर्ण जीवन जीने के हकदार हैं. न्यायमूर्ति योगेश खन्ना एक बहू द्वारा निचली अदालत के आदेश के खिलाफ दायर अपील पर सुनवाई कर रहे थे, जिसके तहत उसे ससुराल में रहने का अधिकार नहीं दिया गया था.

‘वैकल्पिक आवास प्रदान किया जाए’

न्यायाधीश ने कहा कि एक संयुक्त घर के मामले में संबंधित संपत्ति के मालिक पर अपनी बहू को बेदखल करने को लेकर कोई प्रतिबंध नहीं है. उन्होंने कहा कि मौजूदा मामले में यह उचित रहेगा कि याचिकाकर्ता को उसकी शादी जारी रहने तक कोई वैकल्पिक आवास प्रदान कर दिया जाए. जस्टिस खन्ना ने कहा कि मौजूदा मामले में दोनों ससुराल वाले वरिष्ठ नागरिक हैं और वे शांतिपूर्ण जीवन जीने तथा बेटे-बहू के बीच के वैवाहिक कलह से प्रभावित न होने के हकदार हैं.

पति किराये के मकान में रहता है

न्यायाधीश ने अपने फैसले में कहा, ‘मेरा मानना है कि चूंकि दोनों पक्षों के बीच तनावपूर्ण संबंध हैं, ऐसे में जीवन के अंतिम पड़ाव पर वृद्ध सास-ससुर के लिए याचिकाकर्ता के साथ रहना उपयुक्त नहीं होगा. इसलिए यह उचित होगा कि याचिकाकर्ता को घरेलू हिंसा से महिलाओं के संरक्षण अधिनियम की धारा 19(1)(एएफ) के तहत कोई वैकल्पिक आवास मुहैया कराया जाए’. इस मामले में पति द्वारा भी पत्नी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई गई थी, जो किराये के घर में अलग रहता है और उसने संबंधित संपत्ति पर किसी भी तरह का दावा नहीं जताया है.

Hight Court ने खारिज की अपील 

उच्च न्यायालय ने कहा कि घरेलू हिंसा अधिनियम की धारा-19 के तहत आवास का अधिकार संयुक्त घर में रहने का एक अपरिहार्य अधिकार नहीं है, खासकर उन मामलों में, जहां बहू अपने बुजुर्ग सास-ससुर के खिलाफ खड़ी है. अदालत ने कहा, ‘मौजूदा मामले में सास-ससुर लगभग 74 और 69 साल के वरिष्ठ नागरिक हैं तथा वे अपने जीवन के आखिरी पड़ाव पर होने के कारण बेटे-बहू के बीच के वैवाहिक कलह से ग्रस्त हुए बिना शांति से जीने के हकदार हैं. उच्च न्यायालय ने याचिकाकर्ता की अपील को खारिज कर दिया और इसके साथ ही प्रतिवादी ससुर के हलफनामे को स्वीकार कर लिया कि वह अपने बेटे के साथ बहू के वैवाहिक संबंध जारी रहने तक याचिकाकर्ता को वैकल्पिक आवास मुहैया कराएंगे.

क्या है पूरा मामला?

सास-ससुर अपने बेटे-बहू के रोजाना के झगड़े से परेशान हो गए थे. कुछ वक्त बाद बेटा घर छोड़कर किराए के मकान में शिफ्ट हो गया, लेकिन बहू अपने बुजुर्ग सास-ससुर के साथ ही रही. वह घर छोड़कर जाना नहीं चाहती थी. जबकि, सास-ससुर बहू को घर से निकालना चाहते थे. इसके लिए ससुर ने भी कोर्ट में याचिका दायर की थी. महिला के ससुर ने 2016 में निचली अदालत के समक्ष इस आधार पर कब्जे के लिए एक मुकदमा दायर किया था कि वह संपत्ति के पूर्ण मालिक हैं और उनका बेटा किसी अन्य स्थान पर रहता है और वह अपनी बहू के साथ रहने के इच्छुक नहीं हैं. वहीं, याचिकाकर्ता ने तर्क दिया था कि संपत्ति परिवार की संयुक्त पूंजी के अलावा पैतृक संपत्ति की बिक्री से हुई आय से खरीदी गई थी, लिहाजा उसे भी वहां रहने का अधिकार है. निचली अदालत ने प्रतिवादी के पक्ष में कब्जे का आदेश पारित किया था और कहा था कि  याचिकाकर्ता को वहां रहने का कोई अधिकार नहीं है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

नवीनतम

राष्ट्र सर्वोपरि की भावना से ओतप्रोत है हमारे वीर सैनिक – मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी

उत्तराखंड, Dehradun ; नैनीताल बैंक द्वारा जोशीमठ भूधंसाव से प्रभावितों के लिये मुख्यमंत्री को सौंपा 20 लाख का चेक ’’राष्ट्र-सर्वोपरि’’ की भावना से ओत-प्रोत हमारे वीर...

धामी सरकार लाने जा रही है सख्त नकलरोधी कानून, पटवारी भर्ती से पहले लग सकती है नकलरोधी कानून पर मुहर

सीएम धामी बोले गड़बडी करने वालो को कतई बख्शा नहीं जायगा देहरादून। उत्तराखंड में पटवारी-लेखपाल भर्ती की परीक्षा से पहले देश का सबसे सख्त नकलरोधी...

“घर वहीं है जहां दिल है” इस प्रकार के अभिनव प्रयासों से युवाओ को मिलती है प्रेरणा – रेखा आर्या

कैबिनेट मंत्री रेखा आर्या ने किया इंटिरियर डिजाइन के शो रूम का विधिवत उद्घाटन देहरादून। कैबिनेट मंत्री रेखा आर्या ने आज राजपुर रोड स्थित आज देहरादून...

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भिण्ड से करेंगे विकास यात्रा का शुभारंभ

मुख्यमंत्री जन-सेवा अभियान के स्वीकृति-पत्र और हितलाभ का होगा वितरण भिण्ड, मुरैना और श्योपुर के पात्र हितग्राही होंगे लाभान्वित मुख्यमंत्री ने की संत रविदास जयंती पर...

प्रभावित को धनराशि समय पर न दिए जाने पर भड़के मंत्री, अधिकारियों की लगाई क्लास

महाराज ने जनपद को दी 14 करोड़ की सौगात, 12.46 करोड़ की धनराशि ग्राम पंचायतों के खाते में की ट्रांसफर  उत्तराखंड   टिहरी  पुनर्वास हेतु सरकार द्वारा निर्गत...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से वेंकटेश्वरा मेडिकल कॉलेज एवं यूनिवर्सिटी गजरौला-मेरठ के चेयरमैन एवं चांसलर डॉ. सुधीर गिरी ने भेंट की।

उत्तराखंड, Dehradun  मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से गुरुवार को मुख्यमंत्री आवास स्थित कैंप कार्यालय में वेंकटेश्वरा मेडिकल कॉलेज एवं यूनिवर्सिटी गजरौला-मेरठ के चेयरमैन एवं चांसलर...

केन्द्रीय मंत्री गडकरी से प्रदेश के उद्यानिकी राज्य मंत्री कुशवाह ने की भेंट

मध्य-प्रदेश केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी से प्रदेश के उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) भारत सिंह कुशवाह ने नई...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी : ” प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत की भूमिका ग्लोबल लीडर की बन गई है।”

उत्तराखंड, Dehradun ; मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा है कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में भारत की भूमिका ग्लोबल लीडर की...

मंत्री सतपाल महाराज ने चौबट्टाखाल को फिर दिया 37 करोड़ की योजनाओं का तोहफा

जयहरीखाल (पौडी)। चौबट्टाखाल विधायक और प्रदेश के पंचायती राज, पर्यटन, लोक निर्माण, सिंचाई, ग्रामीण निर्माण, जलागम, धर्मस्व एवं संस्कृति मंत्री सतपाल महाराज ने एक...

मार्शल आर्ट सिर्फ एक खेल ही नहीं बल्कि सिखाता है आत्म सुरक्षा का गुर-रेखा आर्या

  रुड़की   प्रदेश की खेल मंत्री रेखा आर्या आज रुड़की स्थित कोर विश्वविद्यालय पहुंची जहां वह विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित 23वीं SQAY "मार्शल आर्ट राष्ट्रीय स्तरीय...