Tuesday, November 29, 2022
Home दिल्ली किसान नेताओं को पूरा भरोसा, केंद्र की मजबूरी बन जाएगा आंदोलनकारियों की...

किसान नेताओं को पूरा भरोसा, केंद्र की मजबूरी बन जाएगा आंदोलनकारियों की बात मानना

 

जब से किसानों की महापंचायतें शुरू हुई हैं, इस आंदोलन ने केंद्र सरकार और भाजपा की आंखें खोल दी हैं। किसानों को जितना परेशान किया जाएगा, हर राज्य में उसे उतना ही अधिक राजनीतिक नुकसान झेलना पड़ेगा…

नई दिल्ली : किसान आंदोलन को लेकर केंद्र सरकार की तरफ से हर बार कुछ ऐसा कहा जाता है कि जिससे यह आंदोलन कमजोर होने या टूटने की बजाए और ज्यादा मजबूती से आगे बढ़ने लगता है। अगर केंद्र सरकार अपनी जिद पर अड़ी रही तो आने वाले समय में उसकी मजबूरी बन जाएगी कि वह किसानों की बात सुने और उन पर अमल करे। अन्नादाता अब उसी स्थिति की ओर अग्रसर हैं।

संयुक्त किसान मोर्चे के वरिष्ठ सदस्य हन्नान मौला कहते हैं, किसान आंदोलन से भाजपा को बड़ा राजनीतिक नुकसान संभव है। अगर सरकार ये सोच रही है कि पंजाब और हरियाणा की 23 लोकसभा सीटों की उसे कोई परवाह नहीं है तो ये उसकी भारी भूल है। दूसरे प्रदेशों में हो रही किसान महापंचायतों को देखकर सरकार नहीं संभल रही है, तो इसका सीधा सा मतलब है कि वह अपने पांव पर खुद कुल्हाड़ी मारने की तैयारी कर रही है।

हन्नान मौला कहते हैं, भाजपा ने किसान आंदोलन को तोड़ने के लिए जितने भी प्रयास हो सकते हैं, सब करके देख लिए। अब देश के सामान्य लोग इस आंदोलन से जुड़ने लगे हैं। भाजपा के लोग कभी बोलते हैं, ये तो ढाई प्रदेश का आंदोलन है। किसान थक हार कर वापस अपने गांव लौट जाएगा। ऐसा कुछ नहीं हुआ। जब से किसानों की महापंचायतें शुरू हुई हैं, इस आंदोलन ने केंद्र सरकार और भाजपा की आंखें खोल दी हैं। किसानों को जितना परेशान किया जाएगा, हर राज्य में उसे उतना ही अधिक राजनीतिक नुकसान झेलना पड़ेगा।

योगेंद्र यादव कहते हैं, यह आंदोलन हर बार एक नई शक्ति के साथ आगे बढ़ा है। अब किसान आंदोलन उत्तर भारत, दक्षिण भारत और पूर्व के हिस्सों तक फैल चुका है। भाजपा के लिए एक सबसे बड़ी दिक्कत यह है कि वह हर बात को राजनीति के तराजू में रख देती है। उसने किसान के साथ भी यही किया है।

भाजपा ने किसान को अन्नदाता न मानकर उसे उपभोग की वस्तु मानने की गलती कर दी है। इसका खामियाजा उसे चुनाव में भुगतना पड़ेगा। एक-दो राज्य नहीं, बल्कि हर प्रदेश में उसे राजनीतिक चोट लगेगी। वजह, किसान महापंचायतों के बाद अब बड़ी रैलियां होने जा रही हैं। ये रैलियां भाजपा को उसकी जमीन दिखा देंगी। समाज के विभिन्न वर्ग, सरकारी कर्मचारी और व्यापार जगत भी किसानों के साथ आ गया है।

 

 

Source Link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

नवीनतम

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में ही संभव हो सका जम्मू-कश्मीर में पंचायतों का गठन : महाराज

जम्मू-कश्मीर से आये सैकडों पंचायत प्रतिनिधियों ने की पंचायत मंत्री से भेंट देहरादून। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में ही जम्मू-कश्मीर में पंचायतों का गठन...

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नई दिल्ली में मध्यांचल भवन परिसर में रोपा आँवले का पौधा

मध्य प्रदेश; मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज दिल्ली प्रवास के दौरान मध्यांचल भवन परिसर में पौध-रोपण किया। मुख्यमंत्री चौहान ने आँवले का पौधा लगाया...

देहरादून चंद्रमणि चौक पर हुआ बड़ा हादसा, बेकाबू ट्रक ने कई लोगों को कुचला

देहरादून। चंद्रमणि चौक पर बड़ा हादसा हो गया,  यहां एक बेकाबू ट्रक ने कई लोगों को कुचल दिया। हादसे में एक की मौत हुई और...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने जनपद टिहरी क्षेत्रान्तर्गत परोगी(अगलाड़) थत्यूड़ में विभिन्न विकास योजनाओं का किया लोकार्पण एवं शिलान्यास।

उत्तराखंड, Dehradun  मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सोमवार को जनपद टिहरी क्षेत्रान्तर्गत परोगी(अगलाड़) थत्यूड़ में विभिन्न विकास योजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। उन्होंने अठजूला...

मुख्यमंत्री चौहान खरगोन में विधायक बिरला की सुपुत्री के विवाह समारोह में हुए शामिल

मध्य प्रदेश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज खरगोन में बड़वाह विधायक सचिन बिरला की सुपुत्री सोनाली के विवाह समारोह में शामिल हुए। मुख्यमंत्री चौहान ने...

डॉ. धन सिंह रावत, स्वास्थ्य मंत्री  : एक क्लिक पर मिलेगी मेडिकल हिस्ट्री

उत्तराखंड, Dehradun आयुष्मान भारत हेल्थ अकाउंट बनाने से किसी भी व्यक्ति के लिए स्वास्थ्य दस्तावेज संभाल कर रखने का झंझट नहीं रहेगा। अब तक प्रदेश...

कांग्रेस नेता हरीश रावत : ‘दाढ़ी रखने से कोई गुरु रविंद्रनाथ टैगोर नहीं बन जाता’ 

उत्तराखंड, Dehradun ; कांग्रेस नेता राहुल गांधी की दाढ़ी पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के बयान के बाद पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने भी उन्हीं...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने नई दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मन की बात कार्यक्रम को सुना।

उत्तराखंड / नई दिल्ली ; मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने रविवार को नई दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मन की बात कार्यक्रम को सुना।...

बच्चे फास्ट फूड से बचें और प्राकृतिक चीजों को अपनाये : राज्यपाल मंगुभाई पटेल

आरोग्य भारती की राष्ट्रीय फिजियोथैरेपी कॉन्फ्रेंस मध्य-प्रदेश, Bhopal ; राज्यपाल मंगुभाई पटेल ने कहा है कि फिजियोथैरेपी के ज़रिए सम्पूर्ण स्वास्थ्य को ठीक रखा जा सकता...

अब धर्मनगरी की विभिन्न सामाजिक और धार्मिक संस्थाएं संभालेंगी गंगा घाटों की सफाई और सुंदरीकरण का कार्य

 उत्तराखंड    हरिद्वार  धर्मनगरी की विभिन्न सामाजिक और धार्मिक संस्थाएं अब नगर निगम क्षेत्र के अंतर्गत गंगा घाटों की सफाई और सुंदरीकरण का कार्य संभालेंगी,...